Meaning of Rudraksha: रुद्राक्ष पहनने से हो जाते हैं सारे काम, जाने रुद्राक्ष हमे क्यों पहनना चाहिए..

Rudraksha

 

रुद्राक्ष Rudraksha: रुद्राक्ष का अर्थ है रुद्र + अक्ष, रुद्र का अर्थ है भगवान शंकर और अक्ष का अर्थ है आंसू। भगवान शिव की आंखों से जल की कुछ बूंदें जमीन पर गिरीं और महान रुद्राक्ष का जन्म हुआ। भगवान शिव की आज्ञा पाकर रुद्राक्ष वृक्षों पर फल के रूप में प्रकट हो गये। ऐसा माना जाता है कि रुद्राक्ष 38 प्रकार के होते हैं, जिनमें 12 प्रकार के भूरे रंग के रुद्राक्ष सूर्य की आंखों से उत्पन्न हुए, 16 प्रकार के सफेद रंग के रुद्राक्ष चंद्रमा की आंखों से उत्पन्न हुए और 10 प्रकार के काले रंग के रुद्राक्ष में रंग होते हैं। आग की आँखों से निकलें. आइए जानते हैं कि रुद्राक्ष की दिव्य रोशनी से आप सुखी जीवन जीते हुए दुखों से कैसे छुटकारा पा सकते हैं और शिव का आशीर्वाद कैसे पा सकते हैं?

 

रुद्राक्ष: फल: शुभ: जैसा आप देखें। न एवं दृश्यते अन्या च मलिका परमेश्वरी:।
अर्थात संसार में कोई भी माला रुद्राक्ष की माला के समान फलदायी और शुभ नहीं है।

 

श्रीमद्-देवीभागवत में लिखा है: रुद्राक्षधारणद्य श्रेष्ठं न किंचिदपि विद्यते।
अर्थात रुद्राक्ष धारण करने से बढ़कर संसार में कोई दूसरी वस्तु नहीं है।

 

रुद्राक्ष की दो जातियाँ हैं- रुद्राक्ष और भद्राक्ष।
रुद्राक्ष के मध्य में भद्राक्ष धारण करना अत्यंत फलदायी होता है।

 

रुद्राक्ष की माला किसके लिए अच्छी होती है: अलग-अलग संख्या में रुद्राक्ष की माला निम्नलिखित प्रकार से परिणाम प्रदान करने में सहायक होती है। जो इस प्रकार है-
रुद्राक्ष के 100 दानों की माला धारण करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है। रुद्राक्ष के 108 दानों को धारण करने से सभी कार्यों में सफलता मिलती है। इस माला को धारण करने वाला अपनी पीढ़ियों का उद्धार करता है। 140 रुद्राक्ष दानों की माला पहनने से साहस, पराक्रम और अच्छा स्वास्थ्य मिलता है। रुद्राक्ष के 32 दानों की माला पहनने से धन, संपत्ति और आयु में वृद्धि होती है। सिर पर 26 रुद्राक्ष दानों की माला पहननी चाहिए। गले में रुद्राक्ष के 50 दानों की माला पहनना शुभ होता है। रुद्राक्ष के 15 दानों की माला मंत्र जाप, तंत्र सिद्धि जैसे कार्यों के लिए उपयोगी होती है। हाथों में रुद्राक्ष के 16 दानों की माला पहननी चाहिए। मणिबंध में रुद्राक्ष के 12 दाने धारण करना शुभ होता है। रुद्राक्ष के 108, 50 और 27 दानों की माला धारण करने या जप करने से पुण्य की प्राप्ति होती है।

 

रुद्राक्ष (Rudraksha) माला पहनने के नियम

जिस रुद्राक्ष की माला से जाप किया जाता है उसे धारण नहीं करना चाहिए। इसी प्रकार पहनी हुई माला से जप नहीं करना चाहिए। किसी दूसरे के द्वारा प्रयुक्त रुद्राक्ष या रुद्राक्ष माला का प्रयोग नहीं करना चाहिए। रुद्राक्ष को पवित्र करके शुभ मुहूर्त में ही धारण करें। रुद्राक्ष पहनने वाले व्यक्ति को मांस, शराब, लहसुन और प्याज का सेवन नहीं करना चाहिए। रुद्राक्ष को अंगूठी में धारण नहीं करना चाहिए। महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान रुद्राक्ष नहीं पहनना चाहिए।रात्रि में रुद्राक्ष पहनकर नहीं सोना चाहिए। जो व्यक्ति सच्चे और पवित्र मन से भगवान शंकर की पूजा करके रुद्राक्ष धारण करता है, उसके सभी कष्ट दूर हो जाते हैं। यहां तक माना जाता है कि इसके दर्शन मात्र से ही पापों से मुक्ति मिल जाती है। जिस घर में रुद्राक्ष की पूजा होती है, वहां लक्ष्मी जी का वास होता है। रुद्राक्ष भगवान शंकर का एक अमूल्य एवं अद्भुत उपहार है। यह शंकर जी की अत्यंत प्रिय वस्तु है। इसके स्पर्श और जप मात्र से मनुष्य को सभी पापों से मुक्ति मिल जाती है और लौकिक, पारलौकिक और भौतिक सुखों की प्राप्ति होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *